Sunday, 12 February 2017

रस एवं उसके भेद


रस - काव्य को पढ़ते या सुनते समय  जिस आनन्द की अनुभूति होती है ,उसे ही रस कहते  है। 


 रसों की संख्या नौ है।  

रस का नाम                          स्थायीभाव 

1- श्रृंगार                                   रति 
2- वीर                                      उत्साह
 3- रौद्र                                     क्रोध 
4- वीभत्स                                 जुगुप्सा ( घृणा )
5- अदभुत                                विस्मय 
6- शान्त                                   निर्वेद 
7- हास्य                                   हास
8- भयानक                               भय
9- करुण                                  शोक ( इनके अतिरिक्त दो रसों की चर्चा और होती है )- 
10- वात्सल्य                             सन्तान विषयक रति 
11- भक्ति                                 भगवद विषयक रति

SHARE THIS

Author:

Etiam at libero iaculis, mollis justo non, blandit augue. Vestibulum sit amet sodales est, a lacinia ex. Suspendisse vel enim sagittis, volutpat sem eget, condimentum sem.

0 comments: