Friday, 1 December 2017

फतेहपुर सीकरी पर निबंध। Fatehpur Sikri Essay in Hindi

फतेहपुर सीकरी पर निबंध। Fatehpur Sikri Essay in Hindi

Fatehpur Sikri Essay in Hindi

फतेहपुर सीकरी उत्तर प्रदेश के आगरा जिले में स्थित है। सन् 1571 से 1585 तक यह मुगल सम्राट अकबर के शासन काल में भारत की राजधानी थी। बाद में जल के अभाव के कारण उसे छोड़कर आगरा किले आ गए थे। जब खानवा में बाबर ने राणा सांगा को हरा दिया तो अकबर ने इस स्थान पर अपना सुख्यालय बनाकर उसका नाम फतेहपुर सीकरी रख दिया।

अकबर के की संतान नहीं थी। सूफी संत सलीम चिश्ती के आशीर्वाद से उनके घर सलीम का जन्म हुआ जो बाद में जहाँगीर के नाम से प्रसिद्ध हुआ। फिर अकबर ने 1571 में फतेहपुर सीकरी में सलीम चिश्ती की दरगाह बनवी जहाँ आज भी लोग मन्नत माँगने आते हैं।

फतेहपुर सीकरी में अनेक महल बड़े-बड़े कमरे और मस्जिदें हैं। यह यूनेस्को की वर्ल्ड हैरिटेज साइट में भी रिकॉर्ड है। ये वही स्थान है जहाँ तानसेन जैसे महान संगीतकार बैठते थे जो कबर के नवरत्नों में से एक थे। यह ऐतिहासिक इमारत गुजराती तथा बंगाली वास्तु-शिल्पकला का एक उत्कृष्ठ उदाहरण है।

यहाँ प्रतिदिन हजारों पर्यटक आते हैं जो नौबतखाना देखते हैं जहाँ अकबर के शासनकाल में विशिष्ट अतिथि के आगमन पर सबको ढिंढोरा पीटकर बताया जाता था। दीवान-ए-खास देखते हैं जो व्यक्तिगत तथा विशेष श्रोताओं के लिए था। यह अपने 36 स्तंभों के लिए प्रसिद्ध है। दीवान-ए-आम देखते हैं जो आम श्रोतगणों के लिए था। जहाँ मुगल सम्राट अकबर आम जनता से रूबरू होते थे।

फतेहपुर सीकरी मे पर्यटक बीरबल का घर देख सकते हं जो अकबर का सबसे प्रमुख मंत्री था और जिसके किस्से पूरी दुनिया में मशहूर हैं। बीरबल के घर की खासियत उसके सुन्दर छज्जे हैं। यहाँ मरियम-उज-जमनी का महल है जिसमें गुजराती शैली देखने को मिलती है। यहाँ पचीसी कोर्ट है। यहाँ एक विशाल आकार का बोर्ड गेम है। यहाँ एक चार चमन टैंक है। एक पंच महल है। जो कभी पाँच मंजिला महल था जिसके नीचे फर्श पर 176 स्तंभ हैं जिन पर मुगल काल की चित्रकारी है। यहाँ सबसे अद्भुत और आश्चर्यजनक बुलन्द दरवाजा है जो 53.5 मीटर ऊँचा है। ये भारत का सबसे ऊँचा दरवाजा है। अकबर ने इसको गुजरात में खानदेश की विजय के उपलक्ष्य में बनवाया था।

इस प्रकार फतेहपुर सीकरी क अद्भुत और अनुपम पर्यटन-स्थल है। देश-विदेश से पर्यटक इसे देखने आते हैं।

SHARE THIS

Author:

Etiam at libero iaculis, mollis justo non, blandit augue. Vestibulum sit amet sodales est, a lacinia ex. Suspendisse vel enim sagittis, volutpat sem eget, condimentum sem.

0 comments: