Monday, 14 August 2017

Cricket information in hindi

Cricket information in hindi

क्रिकेट बल्ले और गेंद से मैदान में खेला जाने वाला खेल है। इसमें 11-11 खिलाड़ियों की दो टीमें होती हैं। दोनों ही टीमें एक-दूसरे के खिलाफ एक बार बैटिंग और एक बार बॉलिंग करती हैं। अधिक रन बनाने वाली टीम को विजेता घोषित किया जाता है। कभी-कभी विजेता टीम का निर्णय विकेट से भी किया जाता है। 
cricket information in hindi
 क्रिकेट खेलने का तरीका : मैदान के बीचोबीच 22 गज लम्बाई और 10 फुट चौड़ाई की एक पिच होती है। जिसके दोनों ओर लगभग 28 इंच लम्बाई के स्टंप लगे होते हैं। साथ ही किसी भी प्रकार का निर्णय देने के लिए मैदान में दो अम्पायर होते है। मैच के दौरान एक टीम बल्लेबाजी तो वहीँ दूसरी टीम गेंदबाजी और फील्डिंग करती है। स्टंप की रक्षा बल्लेबाज अपने बल्ले से करता है। जब गेंदबाज तेजी से दौड़ता हुआ बॉल को बल्लेबाज की और फेंकता है तो बल्लेबाज को बाल को अपने बल्ले से रोकना होता है। बल्ले से टकराने पर जब बाल दूर जाती है इसी बीच बल्लेबाजों को दौड़कर तेजी से रन लेना होता है। वहीँ गेंदबाजी करने वाली टीम का उद्देश्य रनों को  बल्लेबाजों  आउट करना होता है। 
अपने विकेट की रक्षा करने के लिए बल्लेबाज लकड़ी के बल्ले का प्रयोग करता है। फील्डिंग करने वाली टीम के  सदस्य मैदान में अलग-अलग जगह अपनी स्थिति लिए होते हैं, इसी टीम का एक सदस्य गेंदबाजी करवाता है। ये खिलाड़ी बल्लेबाज को रन बनाने से रोकने के लिए गेंद को पकड़ने का प्रयास करते हैं। और बॉल को स्टंप पर फेंककर या बॉल को हवा में ही कैच करके बल्लेबाज को आउट करने का प्रयास करते हैं। बल्लेबाज यदि आउट नहीं होता है तो वो विकेटों के बीच में भाग कर दूसरे बल्लेबाज ("गैर स्ट्राइकर") से अपनी स्थिति को बदल सकता है, जो पिच के दूसरी ओर खड़ा होता है। इस प्रकार एक विकेट से दुसरे विकेट एक दौड़कर बल्लेबाज रन बनाते हैं। एक बार दौड़ पूरी होने पर एक रन बन जाता है। कई बार ऐसा भी होता है की बॉल बिना किसी की पकड़ में आये सीधे बॉउंड्री लाइन तक पहुँच जाती है, ऐसी स्थिति में सीधे 4 रन बन जाते हैं इसे ही चौका कहते हैं। और जब बॉल बिना जमीन को छुए हवा में ही सीधे बॉउंड्री को पार करती है तो 6 रन माने जाते हैं इसे छक्का कहते हैं। 

cricket ground
मैच के प्रकार : क्रिकेट के कई प्रारूप है जैसे टेस्ट क्रिकेट, वन-डे क्रिकेट और 20-20 क्रिकेट आदि। 

  • टेस्ट क्रिकेट को प्रथम श्रेणी का क्रिकेट भी कहा जाता है इसमें केवल वो ही देश खेल सकते हैं जो आई.सी.सी के पूर्ण सदस्य होते हैं। इसमें खेले जाने वाले मैचों की समयावधि अधिक होती है। 
  • वन-डे मैच को सीमित अवधि का क्रिकेट मैच भी कहते हैं। इसे एक दिवसीय मैच भी कहते है क्योंकि एक मैच की अवधि केवल एक दिन होती है। इसमें ओवरों की संख्या 50 होती है। पहला एक दिवसीय मैच 1971 में खेला गया। 
  • 20-20 मैच : यह क्रिकेट का एक नया प्रारूप है जो हाल ही में देखने को मिला। नाम से ही पता चलता है की इसमें ओवरों की संख्या 20 होती है। 20-20 विश्वकप और आई.पी.एल इसका उदाहरण है। 
क्रिकेट का इतिहास : क्रिकेट का सबसे पहला उल्लेख 1598 ई में मिलता है तब इसे क्रिकेट न कहके क्रिक्केट कहा जाता था। इसे बच्चे खेला करते थे परन्तु धीरे-धीरे बड़ों ने  भी इसमें दिलचस्पी ली और ये खेल मशहूर होता गया। अगर शाब्दिक दृष्टि से देखें तो तो क्रिकेट शब्द की उत्पत्ति क्रीक शब्द से हुई है जिसका मतलब होता है छड़ी। और क्रिकेट का मतलब हुआ छड़ी से खेला जाने वाला खेल। यही छड़ी आगे चलकर बल्ले में तब्दील हो गयी। वहीँ भारत में क्रिकेट की शुरुआत ईस्ट इंडिया कम्पनी के आने के बाद 1761 ई में बड़ौदा के पास मानी जाती है।  होता हुआ यह खेल पाकिस्तान, श्री लंका, बांग्लादेश आदि देशों में पहुँच गया। 

क्रिकेट से सम्बंधित रोचक बातें 

  1. क्रिकेट फुटबॉल के बाद दूसरा ऐसा खेल है जो विश्व में सबसे ज्यादा खेला जाता है। 
  2. सुनील गावस्कर विश्व के ऐसे पहले ऐसे बल्लेबाज है जिन्होंने टेस्ट मैच में 10,000 रन का आंकड़ा छुआ था।
  3. ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा भारत में 1721 में बड़ोदा के केम्ब्रे में पहली बार क्रिकेट खेला था।
  4. पहला टेस्ट मैच 15 मार्च 1877 को इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच मेलबॉर्न में खेला गया था जिसमे ऑस्ट्रेलिया जीता। 
  5. भारत ने पहला विश्व कप 1983 में जीता था और दूसरा वर्ल्ड कप 28 साल बाद महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में 2011 में जीता।
  6. सौरव गांगुली को वन-डे मैच में एक के बाद एक लगातार चार बार मन ऑफ़ द मैच का अवार्ड मिला था।
  7. ग्रैमी स्मिथ अकेले ऐसे खिलाडी है जिसने 100 से भी ज्यादा टेस्ट मैच में कप्तानी की है।


SHARE THIS

Author:

Etiam at libero iaculis, mollis justo non, blandit augue. Vestibulum sit amet sodales est, a lacinia ex. Suspendisse vel enim sagittis, volutpat sem eget, condimentum sem.

0 comments: