Saturday, 29 April 2017

मूर्ख बंदर hindi moral story

कई सदियों पहले, एक बहुत बड़ा और घना जंगल हुआ करता था।एक बार की बात है की  बंदरों का एक समूह जंगल में पहुंचा। यह सर्दी का मौसम था, और ठंडी-ठंडी रातों से बचने के लिए बंदरों को कड़ा संघर्ष करना पड़ रहा था। वे गर्म होने के लिए आग की तलाश कर रहे थे

एक रात, उन्होंने एक जुगनू को उड़ते देखा और उसे उड़ती हुई आग समझ बैठे। समूह में सभी बंदरों ने एक साथ ख़ुशी से कहा 'अग्नि, अग्नि, अग्नि, हाँ, हमें आग मिल गई!'

कुछ बंदरों ने आग  को पकड़ने की कोशिश की लेकिन ना पकड़ सके। वे दुखी थे क्योंकि वे आग पकड़ नहीं सके। वे खुद से बात कर रहे थे कि अगर उन्हें आग नहीं मिली तो वे ठंड में नहीं रह सकते थे।

अगली रात, फिर उन्होंने कई जुगनुओं को देखा। कई प्रयासों के बाद, बंदरों ने कुछजुगनुओं को पकड़ लिया।  उन्होंने एक गड्ढा खोदा और उसमे जुगनुओं को रख दिया। वे अभी भी उसे आग ही मान रहे थे।

इस बात से अनजान बंदरों ने आग को तेज करने के लिए फूंक मारनी शुरू कर दी ,जिससे कुछ जुगनू उड़ गए।
एक उल्लू बंदरों की गतिविधियों को देख रहा था। उल्लू बंदरों के पास पहुंचा और उन्हें बताया, 'हे बंदरों ये आग नहीं हैं बल्की जुगनु हैं इससे आप आग नहीं जला पाओगे  '

बंदर उल्लू पर हँसे। एक बंदर ने उल्लू को जवाब दिया, 'हे बूढ़े उल्लू, आप आग लगाने के बारे में कुछ भी नहीं जानते हैं। हमें परेशान मत करें!

उल्लू ने फिर से बंदरों को चेतावनी दी और उनसे कहा कि वे अपनी मूर्खतापूर्ण कार्य को रोक दें। 'बंदर, आप जुगनू से आग नहीं जला सकते इसलिए ! कृपया मेरी बात सुनो। '

बंदरों ने जुगनू से आग लगाने की कोशिश करते रहे।

उल्लू ने उनकी बेवकूफी कार्य को रोकने के लिए उन्हें फिर से बताया। 'आप बेकार ही इतनी मेहनत कर रहे हो ! पास ही में एक गुफा है आप वहाँ जाकर खुद को ठण्ड से बचा सकते हो।

एक बंदर ने उल्लू पर चिल्लाया और उल्लू वहाँ से चला गया।

बंदरों बस कई घंटे तक मूर्खतापूर्ण तरीके से कोशिश करते रहे और लगभग आधी रात बीत गई वे बहुत थक गए थे उन्होंने महसूस किया कि उल्लू के शब्द सही थे और वे एक जुगनू से आग जलाने की कोशिश कर रहे थे।
आखिरकार उन्होंने गुफा में  और रात बिताई।

हम कई बार गलत हो सकते हैं इसलिए अन्य लोगों द्वारा दी गई सलाह सुझावों को स्वीकार करना चाहिए।

SHARE THIS

Author:

Etiam at libero iaculis, mollis justo non, blandit augue. Vestibulum sit amet sodales est, a lacinia ex. Suspendisse vel enim sagittis, volutpat sem eget, condimentum sem.

0 comments: