Wednesday, 8 March 2017

Upsarg (prefix) in Hindi Grammar (उपसर्ग)

hindi upsarg, sankrit upsarg
Upsarg list in hindi and sanskrit

उपसर्ग- वे शब्दांश है जो किसी शब्द से पूर्व लगकर उस शब्द का अर्थ बदल देते है उन्हें उपसर्ग कहते हैं। 

उपसर्गों का स्वतंत्र रूप में कोई महत्व नहीं होता परन्तु जब ये किसी शब्द के आगे लगाए जाते हैं तो उनके अर्थ को विशेष रूप देते हैं।



जैसे - 1-संस्कृत उपसर्ग-

( उपसर्ग )                    ( उपसर्ग से बने  शब्द )
 1. अति                        अतिशय , अत्याचार , अतिसार 
 2. आ                          आजीवन , आकार , आजीविका 
 3. परि                          परिमाप , परिचय , परिमाण 
 4. नि                            निपुण , निगम , निबन्ध 
 5. उप                          उपकार , उपमान , उपयोग 


2-हिन्दी के उपसर्ग 

( उपसर्ग )                       ( उपसर्ग से बने  शब्द )
 अ                                 अचेत , अमर , अशान्त 
अति                            अतिशय, अतिरेक
अधि                            अधिपति, अध्यक्ष
अधि                            अध्ययन, अध्यापन
अनु                             अनुक्रम, अनुताप, अनुज
अनु                             अनुकरण, अनुमोदन
अप                            अपकर्ष, अपमान
अप                            अपकार, अपजय
अन                               अनमोल , अनजान , अनाचार
 भर                               भरसक , भरमार , भरपेट
 दु                                 दुबला , दुगना , दुसह 
 उन                            उनासी , उनतीस , उनचास 
नि                              निमग्न, निबंध
नि                              निकामी, निजोर
परि                               परिपाक, परिपूर्ण, परिमित, परिश्रम, परिवार
प्र                                  प्रकोप, प्रबल, प्रपिता
प्रति                               प्रतिकूल, प्रतिच्छाया
प्रति                               प्रतिदिन, प्रतिवर्ष, प्रत्येक
वि                                 विख्यात, विनंती, विवाद
वि                                 विफल, विधवा, विसंगति
सु                              सुभाषित, सुकृत, सुग्रास
सु                              सुगम, सुकर, स्वल्प
सु                              सुबोधित, सुशिक्षित


SHARE THIS

Author:

Etiam at libero iaculis, mollis justo non, blandit augue. Vestibulum sit amet sodales est, a lacinia ex. Suspendisse vel enim sagittis, volutpat sem eget, condimentum sem.

0 comments: